दिल्ली को हर महीने 60 लाख वैक्सीन सप्लाई करें, CM केजरीवाल ने स्वास्थ्य मंत्री को लिखा पत्र

Nation
CM  केजरीवाल ने स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को पत्र लिखकर मांगी कोरोना वैक्सीन 

CM  केजरीवाल ने स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को पत्र लिखकर मांगी कोरोना वैक्सीन

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री को लिखे पत्र में सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ‘दिल्ली में 18-45 साल के 92 लाख लोग हैं, आप सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक को निर्देश दें कि मई से जुलाई के दौरान हर महीने 60 लाख वैक्सीन डोज दिल्ली को सप्लाई करें’.

नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को कोरोना वैक्सीन को लेकर चिट्ठी  लिखी है. इस पत्र में केजरीवाल ने वैक्सीनेशन के लिए वैक्सीन के डोज मांगे हैं. अरविंद केजरीवाल ने 18 से 45 वर्ष के लोगों का डेटा देते हुए दिल्ली सरकार की ओर से डिमांड रखी है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री को लिखे पत्र में केजरीवाल ने कहा कि ‘दिल्ली में 18-45 साल के 92 लाख लोग हैं, आप सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक को निर्देश दें कि मई से जुलाई के दौरान हर महीने 60 लाख वैक्सीन डोज दिल्ली को सप्लाई करें’. उन्होंने कहा- ’18-45 और 45 से ऊपर के दोनों आयु वर्ग के मद्देनजर दिल्ली को हर महीने 83 लाख डोज चाहिए ताकि अगले 3 महीने में टीकाकरण पूरा हो सके. हम अभी रोजाना एक लाख टीके लगा रहे हैं, जिसको बढ़ाकर हम तीन लाख तक करने जा रहे हैं. इसलिए हमारी क्षमता 90 लाख टीके प्रति माह लगाने की होगी’ वैक्सीन की कीमत सभी के लिए हो एक केजरीवाल ने पत्र में वैक्सीन की कीमत को लेकर भी अपनी बात कही है. उन्होंने कहा – ‘वैक्सीन की कीमत एक होनी चाहिए चाहे केंद्र सरकार खरीदें राज्य सरकार खरीदे या फिर प्राइवेट अस्पताल द्वारा खरीदी जाए’ केजरीवाल ने कहा कि  अभी के हालात में वैक्सीन बनाने वाला प्राइवेट अस्पताल को पहले वैक्सीन देगा, क्योंकि प्राइवेट अस्पताल को वैक्सीन देने में फायदा ज्यादा है, क्योंकि प्राइवेट हॉस्पिटल को महंगी डोज मिलती है बजाए सरकार को देने में’‘Cowin एप’ में कही समस्या की बात इसके साथ ही सीएम केजरीवाल ने कोविन एप में आ रही समस्या का मुद्दा भी उठाया है. उन्होंने कहा कि इस एप में समस्या आ रही है, जिससे आम लोगों का समय व्यर्थ हो रहा है. आप राज्यों को अनुमति दीजिए कि वह टीका लगाने के लिए अपनी कोई ऐप या तरीका बना सकें, जिससे लोगों को टीका लगवाने में दिक्कत न हो और वह लोग भी टीका लगा सकें जो टेक्नोलॉजी नहीं जानते’




Leave a Reply